Sunday, March 7, 2010

hum zindagi se kya chahte hain

हम जिंदगी से क्या चाहते हैं
-----------------------
हम खुद नहीं जानते
हम जिंदगी से क्या चाहते हैं
कुछ कर गुजरने की चाहत मन में लिए
अधूरी चाहतों में जिए जाते हैं

उभरती हैं जब मन में
लीक से हटकर ,कुछ कर गुजरने की चाह
संस्कारों की लोरी दे कर
उस चाहत को सुलाए जाते हैं

सुनहली धुप से भरा आसमान सामने हैं
मन के बंद अँधेरे कमरे में सिमटे जाते हैं

चाहते हैं ज़िन्दगी में सागर सा विस्तार
हकीकत में कूप दादुर सा जिए जाते हैं

चाहते हैं ज़िन्दगी में दरिया सी रवानी
और अश्क आँखों में जज़्ब किये जाते हैं

चाहते हैं जीत लें ज़िन्दगी की दौड़
और बैसाखियों के सहारे चले जाते हैं

कुछ कर गुजरने की चाहत
कुछ न कर पाने की कसक
अजीब कशमकश में
ज़िंदगी जिए जाते हैं

हम खुद नहीं जानते
हम ज़िन्दगी से क्या चाहते हैं

4 comments:

  1. हम ज़िन्दगी से क्या चाहत है यह एक सनातन प्रश्न है । हम अंत तक यह सवाल ज़िन्दगी से पूछते है और इसका उत्तर नही पाते है जो इसका उत्तर पा लेते है उनका जीवन सफल हो जाता है ।

    ReplyDelete
  2. thanx,kokaas ji,saflta ke liye prayaas kiya ja reha hai

    ReplyDelete
  3. badi maarmik rachna.....bheega diya jisne mujhe....!!

    ReplyDelete